Sadqa-e-Fitr (सदका-ए-फित्र) किसे कहते हैं और कितना Fitra देना चाहिए ?

सदका-ए-फ़ित्र का बयान फित्र का मतलब रोज़ा खोलने या रोज़ा न रखने से हैं। खुदा तआला ने अपने बन्दों पर एक सदका मुकर्रर फ़रमाया है जिसे  रमज़ान शरीफ के ख़त्म होने पर रोज़ा खुल…

0 Comments