सूरह और आयत किसे कहते है? कुरान मे कितनी सूरह है और कितनी आयतें है?

पवित्र कुरआन सम्पूर्ण जगत के स्वामी की आरे से सम्पूर्ण मानव जाति को प्रदान किया गया एक महान उपहार है। यह ईशवाणी है।

सूरह किसे कहते है- पवित्र कुरान, पूरे का पूरा, एक लगातार लेख की हैसियत नहीं रखता, बल्कि वह एक 114 हिस्सों में बँटा हुआ है जिनकी शक्ल एक पुस्तक के अध्यायों की सी समझिए। कुरान के इन हिस्सों को ईश्वर ने ‘सूर’ (सूरत) कहा है। कुल मिलकर क़ुरान में 114  सूरा है। 

आयत किसे कहते है सूरा के खास खास टुकड़ो और वाक्यों को, जिनकी हदबंदी ईश्वर ही की ओर से हुई है, ‘आयत’ कहा गया है। कुल मिलकर क़ुरान में 6236 आयते है। 

मे कितनी सूरह है और कितनी आयतें है

‘आयत’ का शाब्दिक अर्थ निशानी और चिन्ह होता है। वह प्रकट वस्तु जो किसी छुपी हुई सच्चाई की और रहनुमाई कर रही हो, अरबी भाषा में ‘आयत’ कहलाती है। आयत शब्द के इस मूल अर्थ को अगर सामने रख कर विचार किया जाए तो कुरान की आयतों को ‘आयत’ कहे जाने के कारण बहुत कुछ समझ में आ जाएंगे। जैसे –

1. कुरआन की आयतें एक चमत्कारिक वाणी का हिस्सा होने की हैसियत से ‘कलामे इलाही’ (ईश्वरीय वाणी) होने की ‘निशानी’ और ‘दलील’ हैं, इसलिए इन्हें ‘आयत’ के नाम से याद किया गया है।

2. कुरआन की आयतें खुद रहनुमाई हैं, क्योंकि इनसे ईश्वर के गुणों और उसके हुक्मों और हिदायतों का ज्ञान होता है, इसलिए इन्हें आयत कहा गया।

3. कुरआनी शिक्षाओं की बुनियाद, ‘ऑर्डर’ और ‘अकीदे’ को ज़बरदस्ती थोपने पर नहीं, बल्कि सोच-विचार और दलीलों पर कायम है। उसकी बातें तर्कपूर्ण वार्ता की हैसियत रखती हैं, मानो कुरआन सिर्फ हुक्मों व हिदायतों ही का नाम नहीं है, बल्कि सबूतों व दलीलों का भी नाम है। इसलिए उसके हिस्सों को आयत फरमाया गया, ताकि उसकी यह विशेषता आँखों से ओझल न होने पाए।

ये भी पढ़े -   सूरह बकराह (02)

कुरआनी आयतें अपने अवतरित होने के समय की दृष्टि से दो प्रकार की हैं:- ‘मक्की’ और ‘मदनी’। मक्की वे आयतें कही जाती हैं जो हिजरत से पहले उतरी हैं, चाहे वे मक्के में उतरी हों या किसी और जगह। मदनी उन आयतों को कहा जाता है जो हिजरत के बाद उतरी हैं, चाहे वे मदीने में उतरी हो या मदीने से बाहर किसी दूसरी जगह।

Total Surah List of Quran in Hindi

No.सूरहआयतकहाँ उतरीपारा
1सूरः फ़ातिहा7मक्का1
2सूरह बकराह286मदीना1-3
3सूरः आले इमरान200मदीना3-4
4सूरः निसा176मदीना4-6
5सूरः मायदा120मदीना6-7
6सूरः अन्आम165मक्का7-8
7सूरः आराफ206मक्का8-9
8सूरः अनफाल75मदीना9-10
9सूरः तौबा129मदीना10-11
10सूरः युनुस109मक्का11
11सूरः हुद123मक्का11-12
12सूरः यूसुफ111मक्का12-13
13सूरः राअद43मदीना13
14सूरः इब्राहीम52मक्का13
15सूरः हिज्र99मक्का14
16सूरः नहल128मक्का14
17सूरः इस्राईल111मक्का15
18सूरः कहफ110मक्का15-16
19सूरः मरयम98मक्का16
20सूरः ताहा135मक्का16
21सूरः अंबिया112मक्का17
22सूरः हज78मदीना17
23सूरः मुअमीनून118मक्का18
24सूरः नूर64मदीना18
25सुरह फुरकान77मक्का18-19
26सूरः शुअरा227मक्का19
27सूरः नम्ल93मक्का19-20
28सूरः क़सस88मक्का20
29सूरः अन्कबूत69मक्का20-21
30सूरः रोम60मक्का21
31सूरः लुकमान34मक्का21
32सूरः सज्दा30मक्का21
33सूरः अहज़ाब73मदीना21-22
34सूरः सबा54मक्का22
35सूरः फ़ातिर45मक्का22
36सूरः या सीन83मक्का22-23
37सूरत साफ्फात182मक्का23
38सूरः स्वाद88मक्का23
39सूरः जुमर75मक्का23-24
40सूरः मोमीन85मक्का24
41सूरः हा मीम54मक्का24-25
42सूरः शूरा53मक्का25
43सूरः जुखरूफ89मक्का25
44सूरः दुखान59मक्का25
45सूरः जासिया37मक्का25
46सूरः अहकाफ35मक्का26
47सूरः मुहम्मद (सल्ल0)38मदीना26
48सूरः फतह29मदीना26
49सूरः हुजरात18मदीना26
50सूरः काफ़ (ق)45मक्का26
51सूरः जारियात60मक्का26-27
52सूरः तूर49मक्का27
53सूरः नज्म62मक्का27
54सूरः क़मर55मक्का27
55सूरः रहमान78मदीना27
56सूरः वाकिया96मक्का27
57सूरः हदीद29मदीना27
58सूरः मुजादला22मदीना28
59सूरः हश्र24मदीना28
60सूरः मुमताहिना13मदीना28
61सूरः सफ14मदीना28
62सूरः जुम्आ11मदीना28
63सूरः मुनाफिकून11मदीना28
64सूरः तगाबून18मदीना28
65सूरः तलाक12मदीना28
66सूरः तहरीम12मदीना28
67सूरः मुल्क30मक्का29
68सूरः कलम52मक्का29
69सूरः हाक्का52मक्का29
70सूरः मआरिज44मक्का29
71सूरः नुह28मक्का29
72सूरः जिन्न28मक्का29
73सूरः मुजम्मिल20मक्का29
74सूरः मुदस्सिर56मक्का29
75सूरः कियामाह40मक्का29
76सूरः दहर31मदीना29
77सूरः मुरसलात50मक्का29
78सूरः नबा40मक्का30
79सूरः नाज़िआत46मक्का30
80सूरः अबासा42मक्का30
81सूरः तकवीर29मक्का30
82सूरः इंफितार19मक्का30
83सूरः मुतफ्फिफीन36मक्का30
84सूरः इंशिकाक25मक्का30
85सूरः बुरूज22मक्का30
86सूरः तारिक17मक्का30
87सूरः आला19मक्का30
88सूरः गाशिया26मक्का30
89सूरः फज्र30मक्का30
90सूरः बलद20मक्का30
91सूरः शम्स15मक्का30
92सूरः लैल21मक्का30
93सुरह धुहा11मक्का30
94सूरः शरह8मक्का30
95सूरः तीन8मक्का30
96सूरः अलक19मक्का30
97सूरः कद्र5मक्का30
98सूरः बय्यनाह8मदीना30
99सूरः जिल्जाल8मदीना30
100सूरः अदियात11मक्का30
101सूरः कारिया11मक्का30
102सूरः तकासूर8मक्का30
103सूरः अस्र3मक्का30
104सूरः हुमाजा9मक्का30
105सूरः फील5मक्का30
106सूरः कुरैश4मक्का30
107सूरः माऊन7मक्का30
108सूरः कौसर3मक्का30
109सूरः काफिरून6मक्का30
110सूरः नस्र3मदीना30
111सूरः तब्बत5मक्का30
112सूरः इख्लास4मक्का30
113सूरः फलक5मक्का30
114सूरः नास6मक्का30
ये भी पढ़े -   सूरह फातिहा हिंदी में - सूरह फातिहा का तर्जुमा

Leave a Reply