जज़िया

« Back to Glossary Index

रक्षा कर। इस्लामी राज्य में बसने वाले गैर-मुस्लिम लोगों से उनको जान, माल और आबरू की रक्षा के बदले में लिया जाने वाला कर। यह कर उस राजप्रबन्ध के कामों में खर्च होता है जो गैर-मुस्लिमों की रक्षा की ज़िम्मेदारी लेता है।

इस्लामी राज्य में सुरक्षा के लिए केवल मुसलमानों को ही नियुक्त किया जाता था।गैर मुस्लिमों की उसमे कोई भूमिका नहीं होती थी, अतः उनसे इसके बदले कर लिया जाता था। मोहताज और विवश गैर-मुस्लिम से जिज़या नहीं लिया जाएगा बल्कि हुकूमत स्वयं उसकी ज़रूरतें पूरी करेगी।