इस्लाम धर्म के पाँच मूल स्तंभ – Five Pillars of Islam

कुरआन का सन्देश और पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल0) की हदीसे दोनों इस्लामी जीवन व्यवस्था की व्यापकता, इसकी व्यक्तिगत और सामूहिक पहलूओं का वर्णन करते हैं।

ईमान के लिए पाँच स्तम्भ या मौलिक कर्तव्य महत्वपूर्ण हैं जो सभी ईमानवाले मुसलमानों के लिए अनिवार्य हैं।

इस्लाम के पाँच स्तम्भ

इन पाँच स्तम्भों का उल्लेख पैग़म्बर (सल्ल0) की एक हदीस में आया है।

  1. शहादत – ईमान की घोषणा
  2. नमाज़/सलात –  दिन में पाँच बार फर्ज़ नमाजें और जुमें की नमाज़
  3. रोज़े –  रमजान के महीने के रोजे
  4. जकात –  गरीबों की भलाई के लिए आर्थिक सहयोग या दान
  5. हज – मक्का की तीर्थयात्रा
ये भी पढ़े -   शहादत या ईमान की घोषणा - इस्लाम का पहला मूल स्तम्भ

Leave a Reply