सूरह मायदा (5)

सूरह मायदा“Al-Ma'idah” कहाँ नाज़िल हुई:मदीनाआयतें:120 versesपारा:6-7 नाम रखने का कारण इस सूरह का नाम सूरह की आयत 112 के शब्द माइदा (खाने से भरा दस्तरखान) से उद्धृत है। अवतरणकाल सूरह…

0 Comments

सूरह आले इमरान (3)

सूरह आले इमरान“Al-Imran” कहाँ नाज़िल हुई:मदीनाआयतें:200 versesपारा:3-4 नाम रखने का कारण इस सूरा में एक जगह आले इमरान का उल्लेख किया गया है। उसी को चिन्ह के रूप में इस…

0 Comments

सूरह निसा (4)

सूरह निसा“An-Nisa” कहाँ नाज़िल हुई:मदीनाआयतें:176 versesपारा:4-6 नाम रखने का कारण इस सूरा का नाम निसा (औरतें) इसलिए रखा गया है कि इस सूरा में कई जगह यह शब्द प्रयुक्त हुआ…

0 Comments

सूरह बकराह (02)

सूरह बकराह“Al-Baqarah” कहाँ नाज़िल हुई:मदीनाआयतें:286पारा:1-3 नाम रखने का कारण इस सूरह का नाम बकरा इसलिए है कि इसमें एक जगह बकरा (गाय) का उल्लेख है। कुरआन मजीद की प्रत्येक सूरत…

0 Comments

सूरह फातिहा हिंदी में – सूरह फातिहा का तर्जुमा

सूरह फातिहा“Al-Fatihah” कहाँ नाज़िल हुई:मक्काआयतें:7पारा:1 इसका सूरह का नाम अल-फातिहा इसके विषय के अनुकूल हैं, इसमें 7 आयतें हैं। फातिहा उस चीज़ को कहते हैं जिससे किसी विषय या पुस्तक…

0 Comments

सूरह और आयत किसे कहते है? कुरान मे कितनी सूरह है और कितनी आयतें है?

पवित्र कुरआन सम्पूर्ण जगत के स्वामी की आरे से सम्पूर्ण मानव जाति को प्रदान किया गया एक महान उपहार है। यह ईशवाणी है। सूरह किसे कहते है- पवित्र कुरान, पूरे…

0 Comments