नमाज़ क्या है और मुसलमान नमाज़ क्यों पढ़ते है

नमाज़ या सलात किसे कहते हैं? नमाज़ ख़ुदा तआला की इबादत और बन्दगी करने का एक ख़ास ढंग है जो ख़ुदा तआला ने क़ुरआन मजी में और हज़रत मुहम्मद (सल्ल0) ने हदीस में मुसलमानों को…

0 Comments

शहादत या ईमान की घोषणा – इस्लाम का पहला मूल स्तम्भ

शहादत या ईमान की घोषणा करने का अर्थ इस्लामी समुदाय की सदस्यता ग्रहण करना हैः अरबी में यह घोषणा इन शब्दों में की जाती हैः 'ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मदु र्रसूलुल्लाह'  इसका…

0 Comments

इस्लाम धर्म के पाँच मूल स्तंभ – Five Pillars of Islam

कुरआन का सन्देश और पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल0) की हदीसे दोनों इस्लामी जीवन व्यवस्था की व्यापकता, इसकी व्यक्तिगत और सामूहिक पहलूओं का वर्णन करते हैं। ईमान के लिए पाँच स्तम्भ या मौलिक…

0 Comments

मस्जिद किसे कहते हैं?

वह जगह जो ख़ास नमाज पढ़ने के लिए बनायी जाती है और उसमें जमाअत से नमाज़ होती है उसे मस्जिद कहते हैंं। पूरी दुनिया में नमाज़ प्रतिदिन पाँच बार हर…

0 Comments

रमज़ान और रोज़ो के बारे में आप क्या जानते हैं?

रमज़ान का अर्थ रमज़ान इस्लामी कलैण्डर का 9वाँ महीना है। पूरी दुनिया के मुसलमान इसे रोज़े के महीने के रूप में मनाते हैं । इस वार्षिक अनुष्ठान को इस्लाम के…

0 Comments

‘786’ और ‘चाँद व तारा’ जैसे इस्लामिक प्रतीक क्या महत्त्व रखते है इस्लाम में, जानिए

ईसाई धर्म का प्रतीक क्रॉस या सलीब है। ॐ (ओम) या स्वास्तिक हिन्दू धर्म का प्रनिधित्व करता है। जो लोग धर्म को उनके प्रतीकों द्वारा पहिचानने के आदी हैं वह लोग अक्सर…

0 Comments